What is Sim Swap in Hindi ?

0
109
views

“What is Sim Swap in Hindi”

SIM SWAP क्या है ? सिम कार्ड Swap के बारे में तो आपने जरूर सुना होगा। आजकल मारकेट में Sim Swapping बिलकुल Virus के तरह फ़ैल रहा है। SIM SWAP टेक्निक की मदद से कैसे हैकर लाखों, करोड़ों रुपए का फोर्ड कर लेता है। और ऐसे में यूजर को पता भी नहीं चलता है। तो इसलिए आज हम जानने वाले है कि SIM SWAP क्या है ? Sim Card Swap फ़्रॉड कैसे होती है, और इससे कैसे बचे ?

What is Sim Swap in Hindi ?

Sim Swap Kya Hai. दोस्तों आसान और सिम्पल भाषा में आपको बताऊ तो Sim Swap का मतलब होता है। कि फ़िलहाल अभी आपके पास जो नंबर है। चाहें हो किसी भी कंपनी का हो जैसे एयरटेल, वोडाफ़ोन या जिओ, आप चाहें किसी भी कंपनी का नंबर इस्तेमाल कर रहें है। उस सिम को फ़िलहाल आप बंद करके एक नया सिम लेना चाहते है, सेम नंबर का तो इसे हम सिम्पल भाषा में Sim Swap  कहते है। 

तो यहाँ पर हैकर इसी टेक्निक का इस्तेमाल करके और आप जो भी नंबर यूज़ कर रहें है। उस नंबर को ब्लॉक/बंद करवा देता है, और उसके बाद एक नए सिम कार्ड में उस नंबर को ले लेता है। जिसके बाद हैकर के पास पूरा कंट्रोल रहता है मतलब कोई भी आपको कॉल करेगा, कोई भी SMS आएगा या फिर कोई भी OTP आएगा। तो ऐसे में जो आपके पास सिम है, उस पर किसी भी तरह की जानकारी नहीं आएगी। क्यूकि जो आपका सिम कार्ड वो बंद हो चूका है और जो हैकर के पास सिम कार्ड है वो सिम चालु हो चुका है।

इसी तरह से हैकर जो भी ऑनलाइन स्कैम होते हैं, ऑनलाइन फोल्डिंग होती है, बैंक से पैसे निकाल लेते हैं, वह इसी तरह सिम स्वाइप करके काम को अंजाम देते हैं। लेकिन अब सवाल ये उठता है कि आखिर हैकर सिम स्वाइप कैसे कर लेते हैं। बिना हमारी परमिशन के और बिना हमें पता चले। 

हैकर सिम स्वाइप कैसे करता है ?

सिम स्वैप करने के लिए कई सारी टेक्निक और मैथर्ड हो सकते हैं। जिनमें कुछ पॉपुलर है, जैसे कि मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी, फोन कॉल की मदद से, या फिर किसी भी तरह की हैकिंग टेक्निक की मदद से सिम स्वैप किया जा सकता है। यहां पर इस प्रोसेस में हैकर सबसे पहले आपकी पर्सनल डिटेल निकालने की कोशिश करता है। जैसे कि आपका नाम, आपका एड्रेस, आपका नंबर, आपका आधार नंबर, आपकी आईडी जो भी जानकारी एक सिम स्वैप में जरुरी होती है। सबसे पहले हैकर उस जानकारी को निकलता है।

आपकी पर्सनल डिटेल हैकर कहाँ से निकलता है ?

  1. सोशल मीडिया प्रोफाइल – आज कल सभी लोग अपनी सोशल मीडिया प्रोफाइल पर एड्रेस, पर्सनल नंबर, अपना रियल नाम डाल देतें है। और इसी की मदद से हैकर आपकी पर्सनल डिटेल निकालने की कोशिश करता है। 
  2. या फिर हैकर ने कोई एप्प डाल दिया हो आपके फ़ोन में जिस की मदद से हैकर आपकी पर्सनल डिटेल निकालने की कोशिश करता है। और भी कई तरिके है जिसकी मदद से जो भी डिटेल एक सिम स्वैप करने के लिए जरुरी होती है। उस डिटेल को हैकर कई ना कई से निकाल लेते है। 
  3. आज-कल जो भी लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते है। वो लोग ऑनलाइन बैंकिंग का इस्तेमाल जरूर करते है। तो यहाँ पर हैकर किसी ना किसी तरीके से आपकी बैंक डिटेल भी निकाल लेते है। जैसे आपका अकाउंट नंबर, आपका एटीएम नंबर, आपके एटीएम का पिन, आपके एटीएम का CVV नंबर यह जो सारी डिटेल होती है। वो हैकर निकाल लेते है। 

किसी भी तरिके से आपकी पर्सनल डिटेल निकालने बाद हैकर एक फेक आईडी प्रूप बनाने की कोशिश करता है। और उसके बाद आपके बैंक से जो भी नंबर लिंक है, उस नंबर को बंद करवाने की कोशिश करता है। और उसके बाद एक नया सिम लेता है, जिस पर सेम नंबर से उस सिम को चालु कर लेता है। इस प्रोसेस में हैकर Customer Care में कॉल करके आपकी सिम को बंद करवा देता है क्यूकि आपकी सारी डिटेल हैकर के पास मौजूद है।  

यहाँ सारा का सारा प्रोसेस हैकर Customer Care वाला बनकर भी आपकी सारी डिटेल निकाल लेता है। इसलिए आपसे कोई भी अगर कॉल करके एटीएम नंबर, आधार नंबर या OTP मांगता है तो आपको कभी नहीं देना चाहिए। और एक बताऊ आपको दोस्तों अगर आपके पास कोई कॉल आता है। और OTP मांगता है तो आपको कभी नहीं देना चाहिए। चाहें वो कोई भी हो जैसे Customer Care वाला, बैंक Customer Care वाला कोई भी इंसान हो उसके साथ OTP को कभी भी शेयर ना करें। 

इसके बाद अब यह सवाल उठता है। कि सिम स्वैप से कैसे बचें क्यूकि आपके पास सिम है, अगर वो हैकर के पास चला जाता है। तो हैकर आपका बैंक अकाउंट खाली कर देता है और आपको पता भी नहीं चलेगा।

Sim Swapping से कैसे बचे ?

  1. अपने किसी भी तरह के पर्सनल डिटेल जैसे कि आपका रियल नाम, आपके घर का एड्रेस, आपका आईडी प्रूफ, आपका बैंक में लिंक मोबाइल नंबर हो गया ऐसे किसी भी तरह के प्रूफ जो की आपके सिम कार्ड से कनेक्ट है। इस तरह की डिटेल सोशल मीडिया प्रोफाइल पर ना डालें। 
  2. किसी भी SMS या ई-मेल आने पर उस लिंक पर क्लिक ना करें।
  3. किसी भी तरह की वेबसाइट हो जिसमें https ना हो उस वेबसाइट पर पर्सनल डिटेल को ना डालें। या फिर थर्ड पार्टी वेबसाइट से डाउनलोड किये गए Apps में भी अपनी पर्सनल डिटेल को ना डालें। 
  4. अगर आपको किसी भी कंपनी या फिर ऑपरेटर की तरफ से कॉल आए। और वो आपसे कहें की हम एयरटेल, वोडाफोन, या जिओ से बोल रहें है। और आपको ऑफर दे रहें है की आप अपने सिम को पोर्ट करवाना चाहते है या फिर किसी कंपनी से कॉल आए और आपसे बोले की हमे यह डिटेल चाहिए। तो आप उन्हें कभी भी अपनी पर्सनल डिटेल ना दें। 
  5. अगर आपका सिम 4 या 5 घण्टे के लिए बंद हो जाता है। तो ऐसे में आपको सावधान हो जाना चाहिए और Customer Care में कॉल करके जानकारी लेनी चाहिए। 

दोस्तों में उमीद्द करता हूँ कि आपको यह सारी जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर कोई और आपका सवाल है तो कमेंट बॉक्स में जरूर डालें। में आपके सवाल का जवाब जल्द ही देने की पूरी कोशिश करूँगा, और ऐसे ही जानकारी के लिए टेक दुनिया हिंदी को लॉग-इन करते रहें। धन्यवाद !

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of